गोल्ड बोर्ड ऑफ इंडिया & Bullian Exchange of India

रतन पी वातल कमेटी ने वित्त मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। करीब 200 पन्ने की रिपोर्ट में कई अहम सिफारिशें की गई हैं। सूत्रों के मुताबिक वातल कमेटी ने बुलियन एक्सचेंज ऑफ इंडिया बनाए जाने की सिफारिश की है। इस एक्सचेंज में गोल्ड लोन की सुविधा की भी सिफारिश की गई है।

वित्त मंत्रालय के तहत गोल्ड बोर्ड ऑफ इंडिया बनाने और इसको नीतियां बनाने की जिम्मेदारी देने की भई बात कही गई है। साथ ही ज्वेलर्स को ऑर्गेनाइज्ड सेक्टर में लाने के लिए टैक्स की दरें भी घटाई जाए। रतन पी वाटल की अगुवाई वाली कमेटी ने वित्त मंत्रालय से कुछ ऐसी ही सिफारिशें की हैं और क्या है अहम सिफारिशें आइए जानते हैं।

सूत्रों के मुताबिक रतन पी वातल कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में सॉवरन गोल्ड बॉन्ड, गोल्ड डिपॉजिट स्कीम में बदलाव करने, गोल्ड पर इंपोर्ट ड्यूटी और जीएसटी की दरें घटाने की भी सिफारिश की है। कमेटी की राय है कि टैक्स की दरें घटने से ज्वेलरी सेक्टर को बढ़ावा मिलेगा।
Advertisements

Comments are closed.